Saturday 31 January 2009

नन्हा सा ख़त


यह क्या !
इतना नन्हा सा ख़त
जो तुमने मुझे जवाब में भेजा !
क्या तुमसे यह नन्हा ख़त भी
नहीं भरा गया
अपनी नोट बुक से फाड़ा गया
छोटा सा कागज टुकड़ा भी
नहीं भरा गया............
प्यार के दो लफ़्ज जो
जो दिल कि ...........

जो दिल की गहराईयो से निकलकर
सब तरफ़ रोनक व खुशिया
बिखेर देते हें........
लेकिन नहीं ........
तुमसे नहीं लिखा गया ........
तुम mausam के बारे में लिख सकते थे
या कोई ऐसी बात जिसके बारे में
लोग तब कहते हें
जब उनके पास बात करने के लिए
कुछ नहीं होता ,
जैसे की...........
चाँद तारों के बारे में लिख सकते थे
लेकिन नहीं..........
इतना नन्हा सा ख़त भी
तुमसे नहीं भरा गया .......
अपनी नोट बुक से फाड़ा गया
एक नन्हा सा पन्ना भी.........
अगर मै .................
तुम्हे ख़ुद लिखने बैठती हू..........
तो जगह भी कम पड़ती है ..............








43 comments:

  1. आपका का ख़त पढ़ा, अच्छा लगा. यूँ ही ख़त लिखते रहिये, अगले ख़त के इंतज़ार में.

    ReplyDelete
  2. beautiful...shikayat bilkul vaajib hai...aur pyaari bhi.

    ReplyDelete
  3. ख़त तो पूरा ही लिखा होना चाहिए ..
    अन्यथा उसका मज़ा नहीं..
    बहुत सुन्दर रचना हे आपकी..

    ReplyDelete
  4. चाँद तारों के बारे में लिख सकते थे
    लेकिन नहीं..........
    इतना नन्हा सा ख़त भी
    तुमसे नहीं भरा गया .......



    उलाहना देने का बहुत ही गहरा भाव छिपा है इन पंक्तियों में।

    ReplyDelete
  5. आपकी ये गुजारिश बहुत प्यारी लगी ....

    ReplyDelete
  6. ख़त अधुरा तो था मगर था बहुत प्यारा....
    उम्मीद कि अगली ख़त में चाँद- तारें की बात जरुर होगी.

    ReplyDelete
  7. खूबसूरत खत ..इसमे आपने गहराई से लिखा है ...पढ़ने को मजबूर किया है । लेखनी जारी रखिए । शु्क्रिया

    ReplyDelete
  8. खूबसूरत खत ..इसमे आपने गहराई से लिखा है ...पढ़ने को मजबूर किया है । लेखनी जारी रखिए । शु्क्रिया

    ReplyDelete
  9. एक सुन्दर और सफल प्रयास.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. मन के खूबसूरत जज़्बात की
    उम्दा तर्जुमानी ...........
    अच्छा ख़त
    बहुत अच्छी नज़्म .........
    बधाई . . . . . . .
    ---मुफलिस---

    ReplyDelete
  11. अगर मै .................
    तुम्हे ख़ुद लिखने बैठती हू..........
    तो जगह भी कम पड़ती है ..............

    Bahut achchha , magar ab khat ka nahi sms ka jamana hai... ek achchha sa sms kar digiye...
    Regards

    ReplyDelete
  12. ye khat to bahut badaa hi..
    is se bhi chhote khat hote hain...in mein hajaaron kisse kahe hote hain.......sainkdon wwayde kiye hote hain...
    bas chand alfaz me hi...

    ReplyDelete
  13. बहुत बढ़िया नन्हा सा ख़त ।

    ReplyDelete
  14. पूर्णिमा जी प्रथम बार आपके ब्लॉग पर आने का सौभाग्य प्राप्त हुआ,अभी आपकी कोई रचना तो नहीं पढ़ी परन्तु आपका प्रोफाइल पढ़ कर ही ये कमेन्ट लिखने को बाध्य हो गया हूँ ,बहुत कम लोग होतें है जो जीवन की उमंगो को पहचान कर उन्हें जी लिया करते है आपके ज़ज्बे को मेरा सलाम

    ReplyDelete
  15. ये लो पूर्णिमा जी हम आप की रचना पढ़ कर आप से संवाद करने भी आ गए आप का ख़त -नन्हा सा ख़त पढ़ कर हम बहुत कुछ सोचने पर मजबूर हो गए -वाकई सृष्टी में औरत से ज्यादा संवेदनशील कोई भी नहीं ...इसके प्यार की गहराई भी अथाह है और ऊंचाई भी ...अब देखिये न बात पत्र की चल रही है उसने तो नोट बुक के एक पन्ने को भी पूरा नहीं भरा लेकिन ये नारीमन का प्रेम और हौसला की

    अगर मै .................
    तुम्हे ख़ुद लिखने बैठती हू..........
    तो जगह भी कम पड़ती है ..............

    ...................पुनश्च: उमंगो को सलाम

    ReplyDelete
  16. आपको परिवार सहित होली पर्व की हार्दिक बधाई और घणी रामराम.

    ReplyDelete
  17. इतना नन्हा सा ख़त भी
    तुमसे नहीं भरा गया .......
    अपनी नोट बुक से फाड़ा गया
    एक नन्हा सा पन्ना भी.........

    khat likhne wale ne kam shabdo me adhik bate likhi hogi,

    bahut hi khoobsurat rachana.

    --------------------------------------------------"VISHAL"

    ReplyDelete
  18. अगर मै .................
    तुम्हे ख़ुद लिखने बैठती हू..........
    तो जगह भी कम पड़ती है ..........
    अंतिम पंक्ति में भाव अपनी समग्रता के साथ प्रकट होता है,कविता सुन्दर लगी ....

    ReplyDelete
  19. अच्छी रचना लगी..धन्यवाद...

    ReplyDelete
  20. hi...nice to go through your blog...well written...by the way which typing tool are you using for typing in Hindi...?

    Now a days typing in an Indian Language is not a big task.

    recently i was searching for the user friendly Indian Language typing tool and found .." quillpad ". do u use the same...?

    heard that it is much more superior than the Google's indic transliteration..!?

    expressing our feelings in our own mother tongue is a great experience...so it is our duty to save, protect,popularize adn communicate in our own mother tongue...
    try this, www.quillpad.in

    Jai...Ho....

    ReplyDelete
  21. achha likha hai...ek do jagah paragraph badalne ki zaroorat mujhe feel huyii..."mausam' angrezi mein likha gaya hai,usko hindi font mein badal le...

    ReplyDelete
  22. पूर्णिमा जी बहुत खूसूरत कविता !

    कहीं ऐसा तो नहीं कि पहला ख़त हो :
    "प्यार का पहला ख़त लिखने में देर तो लगती है .... "
    (जगजीत जी की गाई गजल सुनी है न ?)

    वैसे जब आत्मीयता हो अलिखा भी समझ आता है

    जब बहुत कुछ कहने को जी चाहता है तो
    कुछ भी कहने को जी नहीं चाहता !!!

    ReplyDelete
  23. its too good....main likhne baithtee to jagah bhi kam padh jatee....really nice feeling...hv no words...

    ReplyDelete
  24. प्यारा बहुत प्यारा ... इस लिखावट पर प्यार आया
    बहुत खूब लिखा आपने

    ReplyDelete
  25. खत लिखा तो है. कभी कभी बिन लिखे खत भी बहुत कुछ कहते है. एक बार फिर से तो पढिए.
    बहुत खूबसूरत रचना

    ReplyDelete
  26. बहुत ही प्यारे भाव हैं। शायद इसे ही प्यार कहते हैं/।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  27. इष्टमित्रों और परिवार सहित आपको, दशहरे की घणी रामराम.

    रामराम.

    ReplyDelete
  28. pyar se bheja gaya kora kagaj bhi bahut badi baat kah deta hai.

    ReplyDelete
  29. शिकायत का अंदाज़ निराला...छोटा सा कागज का टुकड़ा भी नहीं भरा गया...? बधाई. ..

    ReplyDelete
  30. तुमसे नहीं भरा गया .......
    अपनी नोट बुक से फाड़ा गया
    एक नन्हा सा पन्ना भी.........
    bahot sahi keep it up....
    frm my self inspiration ye jindgi me aksar hota hi hai.

    ReplyDelete
  31. बहुत कुछ कहता है "नन्हा सा ख़त" - हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete