Wednesday 28 January 2009

माँ

कोई कहे की आप ने इश्वर को देखा हें
तो मै कहूँगी
हा मैंने इश्वर को देखा हें
मेरी माँ में
जब पहली बार
इस दुनिया में आई
और आँख खोली तो
माँ को देखा
माँ की मंद मंद मुस्कान को देखा
मेरी पहली गुरु
मेरी माँ ही हें
जिन्होंने हर कदम
पर मेरा साथ दिया
माँ मेरी सहेली बनी
सारा काम छोड़ कर
घंटो माँ से बातें करती
जब मै बिमार हो जाती
तो माँ मेरा माथा चूमती
और कहती बेटा
अभी ठीक हो जाओगी
जब मै रोने लगती तो
माँ अपार स्नेह देती और
प्यार से गले लगाती
अपनी परवाह किया बिना
दिन रात मेरी परीक्षा में जागती
माँ आप जैसा इस दुनिया
में कोई नहीं
माँ आप साक्षात् इश्वर हें...............



17 comments:

  1. bahut sundar kavita hai par purnima ji aaj to photograph dekh kar smritiyon se na jaane kya samaksh aa khada hua ki aankhen bhar aayi, aapke ye do vriksh sadiav aapke liye chaayaa ban khade rahen. mera pranam

    ReplyDelete
  2. ''इश्वर हर जगह नहीं जा सकता इसलिए उसने माँ बनाई है. ''
    एक खूबसूरत रचना है ठीक माँ की तरह.
    झंकृत हो जाता है शरीर का रोम रोम बस सिर्फ एक इस शब्द से
    ''माँ''

    ReplyDelete
  3. इश्वर के बारे में पता तो तब चलता है जब हम दुनिया में आते है |
    सही कहा है आपने माँ तो माँ है |

    ReplyDelete
  4. जिन्होंने हर कदम
    पर मेरा साथ दिया
    माँ मेरी सहेली बनी
    सारा काम छोड़ कर
    घंटो माँ से बातें करती

    बहुत सुंदर कविता पूर्णिमा जी. एक सुंदर और सफल प्रयास.

    http://avinash-theparaiah.blogspot.com/

    ReplyDelete
  5. हे ईश्वर! सबको माँ-जैसी शक्ति दो, ताकि सब, सब माताओं का सम्मान कर सकें। भारत माता का भी और अपनी मातृभाषा का भी।

    ReplyDelete
  6. वाह जी वाह पूर्णिमा जी बहुत ही अच्‍छा लिखा है सच में मां तो मां ही होती है भगवान से भी बडी बेटे बेटियां अनेक हो सकते हैं लेकिन मां तो हमेशा एक ही होती है

    बेहतरीन भाव

    ReplyDelete
  7. वाह जी वाह पूर्णिमा जी बहुत ही अच्‍छा लिखा है सच में मां तो मां ही होती है भगवान से भी बडी बेटे बेटियां अनेक हो सकते हैं लेकिन मां तो हमेशा एक ही होती है

    बेहतरीन भाव

    ReplyDelete
  8. कोई कहे की आप ने इश्वर को देखा हें
    तो मै कहूँगी
    हा मैंने इश्वर को देखा हें
    मेरी माँ में

    उम्दा विचार और सही भी....सुंदर ब्लॉग....

    ReplyDelete
  9. वाहवा... बेहतरीन कविता है, भाव भी और विचार भी.... आपको बधाई...

    ReplyDelete
  10. मां के प्रति आपकी संवेदना ने प्रभावित किया.
    आपकी प्रोफ़ाइल पढी, फ़िर प्रभावित हुआ. बहुत सकारात्मक सोचती हैं आप.

    ReplyDelete
  11. अरे वाह.........मम्मी-डैडी और आप...........है ना..........मज़ा आ गया.........विचार पर भी और तस्वीर पर भी.........सच........!!

    ReplyDelete
  12. अरे वाह.........मम्मी-डैडी और आप...........है ना..........मज़ा आ गया.........विचार पर भी और तस्वीर पर भी.........सच........!!

    ReplyDelete
  13. मां वाकई मां ही होती हैं.....खूबसूरत कविता

    बधाई हो

    ReplyDelete
  14. माँ आप जैसा इस दुनिया
    में कोई नहीं
    माँ आप साक्षात् इश्वर हें...............

    बहुत बढ़िया!

    ReplyDelete
  15. माँ सचमुच प्यार का सागर होती हैं .....अनमोल
    आपके परिवार का फोटो देखा ....बहुत अच्छा है

    मेरी कलम - मेरी अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  16. आपकी भावनाओं से सहमति दर्ज कराता हुआ
    मैं इतना ही कहना चाहूँगा :

    "माँ"
    एक अक्षर में समाया महाग्रन्थ !

    मेरी दिली शुभकामनाएं !!!

    ReplyDelete
  17. इष्टमित्रों और परिवार सहित आपको, दशहरे की घणी रामराम.

    रामराम.

    ReplyDelete